Transcribe
सारे शहर में आप सा कोई नहीं कोई नहीं कुमार जैसा भी शायद सारे शहर में क्या पूरे वर्ल्ड में कोई नहीं है इसीलिए तो उनकी नजर उतारते उतारते उनके घरवाले शक्ति नहीं है ट्रेजडी किंग दिलीप कुमार के बारे में बहुत सारी बातें अभी और भी हैं इसीलिए तो उनके बारे में एक बार फिर बात करेंगे बॉलीवुड धमाल ओपन द पर आपके साथ एक घर पर आ गई हूं मिलने अवतार जी बी जे बोले तो बबीता जी आज की गैस है कि मैं भी बहुत अच्छी हूं आ जाओ पहले तो मैं यह जानना चाहूंगी यार आजकल जो है मतलब जो ब्रिगेड है क्या आप लोग भी हमारे जो पुरानी हीरोइन हैं उनको पसंद करते ओल्ड इज ऑलवेज गोल्ड इंपोर्ट एक्सपोर्ट एजेंट हैं जो मुझे बहुत पसंद है धर्मेंद्र जी हैं दिलीप कुमार सी थे जिन्हें अरुण दिन कोई भी ऐसा होगा जो पसंद नहीं करता होगा कि लोग अपनी एक्ट कीर्ति की आवाज बीच-बीच में कट रही है लेकिन नाइस ओके बट मुझे यह जानकर बहुत अच्छा लगा कि यंग ब्रिगेड भी हमारी जो ओल्ड इस गोल्ड गोल्डन है राखी जो हीरो हीरोइन तुमको पसंद करके हाउ आर यू कैसे हैं आप तो कीर्ति की दिलीप कुमार साहब में ऐसी कौन सी बात है जो आपको बहुत पसंद आती है संतन की मूवी देवदास या बाबू जिसमें सबसे बड़ी बातों की थी मुझे यह जानकर बहुत अच्छा लग रहा है कि तुम ने दिलीप साहब की फिल्में देखी है ओह वाओ बहुत सी फिल्में देखी अपने पापा को बहुत पसंद है तो वह सिंह कहलाने वाले अपने दिलीप कुमार की जीवन में ना बहुत ऐसे दिन भी आए थे जब उन्हें जेल भी जाना पड़ा था मैंने ऑलरेडी कल इनके बारे में बात की थी ओपन टॉप पर उस टाइम मेरे साक्षी शांति आज आप हो लेकिन मेरे को लगा कि एक ही बार उनकी बारे में डिस्कशन करना है नॉट डन मतलबी अच्छा नहीं रहेगा यह जस्टिफिकेशन नहीं होगा मेरी इस बॉडी बॉलीवुड धमाल के साथ और खासतौर से दिलीप साहब के साथ भी तो मैंने सोचा कि आज तुम्हारे साथ लेकर ही बातचीत होती है तो लगता है कि कीर्ति को फिर से मेरी आवाज नहीं आ रही है आज थोड़ा सा इंटरनेट में प्रॉब्लम है ओके बहुत ज्यादा है और ऊपर से दिल्ली में जो यह सब चल रहा है उसकी वजह से भी कई जगहों की इंटरनेट जो है वह बंद किए गए या न जरूर शेयर करना चाहूंगी आपसे कि वह क्या हुआ क्या था वह कौन सा एक इंसिडेंट है जब उन्हें जेल जाना पड़ा हुआ जवानी के दिनों में एक क्लब में भाषण देते हुए दिलीप कुमार ने कहा कि आजादी की लड़ाई चाहे उसे और ब्रिटिश हो की वजह से ही हिंदुस्तान में सारी मुसीबतें पैदा हो रही इन क्रांतिकारी भाषण पर तालियां तो खूब लेकिन जल्दी ही वहां पर पुलिस आ गई और अंग्रेजी हुकूमत के खिलाफ भाषण देने की वजह से उन्हें गिरफ्तार कर जेल जाना पड़ा और अब इसलिए कोई भी हुकूमत होगी वह तरीके की चीजें होगी करेगी करेगी तो दिलीप कुमार को उस टाइम पर यरवदा जेल में भेजा गया था और कुछ कह दिया गया था शायद आपको बताओ या ना बताओ कि आवाज मुस्ताक अभी तक नहीं पहुंच रही है अगर पहुंच रही होती तो मैं डेफिनेटली कीर्ति के रिएक्शन जानना चाहती थी लेकिन जो इस वक्त मुझे ओपन डॉक्टर लोग आप लोग अपनी रिएक्टेंट मुझे कॉमेंट के थ्रू भेजिए ना कि डिस्कशन है तो डिस्कशन तो यहां पर चलना ही चाहिए हाय कि यदि यार कहां हो हेलो हां हेलो कीर्ति मैंने तुझे बोला कि मतलब मैंने बताया ना पढ़ा था उस टाइम पर जेल के कुछ कैदी आई थिंक कुछ हड़ताल कर रहे थे मुझे याद है उनका क्या बात है यार यही तो मैं बताने वाली थी लेकिन तुमने भी दिलीप साहब के बारे में बहुत सारी रिसर्च की है यह जानकर बड़ा अच्छा लगा अच्छा है आजकल की यंग ब्रिगेड भी अपने पुराने हीरो हीरोइन के बारे में पूरा पूरी इंफॉर्मेशन चाहती है सब कुछ जानना चाहती है और क्या किसी भी यह सब चीजें करती रहती इसलिए कीर्ति मुझे आपके साथ डिस्कशन करने में बड़ा मजा आता है दिलीप कुमार ना एक बेहतरीन क्रिकेटर बीते एक्टिंग तो लाजवाब उनके पर्सनल प्रॉब्लम की वजह से घर की वजह से उन्होंने अपने करियर का वह छोरो क्रिकेट के बारे में छोड़कर हमें नथिंग ज्वाइन की थी ख्वाब देखा कि एक बार उनके दोस्तों ने उन्हें कॉलेज की नाटक में हिस्सा लेने के लिए कहा था तो दिलीप कुमार साहब ने बिल्कुल साफ इनकार कर दिया क्योंकि ना दिलीप कुमार साहब बहुत ही शर्मीले हुआ तुझे इतना शर्मीला इंसान फिल्मों में कैसे आया यार यह कभी-कभी मुझे थोड़ा अजीब सा लगता है कि इतने वह शर्मीले थे लेकिन फिर भी वह फिल्मों में आए और जब वो फिल्मों में आए तो उन्होंने धमाल धमाल मचाया बॉलीवुड धमाल और अपनी कमेंट मेरे तक पहुंचाते रहिए ताकि मुझे भी पता चलता रहे यह सब का उसकी आप लोग तो हमारे साथ दिन में हैं और अब ड्यूटी नहीं जाना जाऊंगी कि आप को जब यह पता चलता है कि पुराने टाइम पर जो एक्टर और एक्ट्रेस इससे वह काफी कम सैलरी पर काम किया करते थे तो क्या कीर्ति की आवाज फिर से हमारे तक नहीं पहुंच रही है तो कोई बात नहीं भाई दिलीप कुमार साहब ने बॉम्बे टॉकीज में 1250 रुपए महीने की सैलरी पर काम किया था लेकिन उन दौरान उस दौरान एक्टिंग का पीछा काफी बदनाम हुआ करता था तो लिहाजा दिलीप कुमार पर्दे के पीछे काम करने लगे और 1944 में वह रुपहले पर्दे पर ज्वार भाटा बंद करो यानी कि वह फिल्म आई थी उनकी ज्वार भाटा उनकी शुरुआत में यही थी बहुत कम थी और फिर जब आए वह फिल्मों में फिर तो शायद उनकी दौलत का कोई हिसाब-किताब नहीं रहा होगा हमको भी समझ में आ रहा है कि नेटवर्क इशू है आज वैसे कई जगहों पर बहुत कुछ हुआ है और दिल बाकी जो लव स्टोरी है वह तुमको पता है कि नहीं पता है मुझे के सॉन्ग सायरा बानो की लव स्टोरी है वह तो मुझे पता है बखूबी पता है तू कुछ लोग इस चीज को अलग ढंग पर बयां करते हैं कुछ लोग इस को अलग ढंग से बयां कर के जैसे जो मुझे पता था वह यह था कि दिलीप साहब जो है उनको बहुत पसंद किया करती थी लेकिन ज्यादा इंटरेस्ट दिखा दे देती जब दिलीप कुमार सायरा बानो सायरा बानो की शादी स्टोरी बता दिलीप साहब और सायरा बानो की भूमि जरूर जानना चाहूंगा इस कैसे शादी होती उनकी लव स्टोरी पता है कि ताराबानो जी को पहले ही नजर में यह पसंद आ गए थे उनकी उन्हें काफी अच्छे लगे थे तो उस वजह से उन्हें उमर को भी ना देखते हुए उनसे प्यार के रोग में शादी बिल्कुल ठीक कह रही है कि सायरा बानो दिलीप साहब की जो उम्र थी ना वह जस्ट ए डबल मतलब इतना डिफरेंट था वह 44 साल के थे और सायरा बानो 5 साल की थी और डिलीट मार दूं खूबसूरत उपयोग और महत्व आ गया उनकी स्टोरी है वह बड़े लेकिन तब से जब मैं तुमको थोड़ी जिन्होंने 17 साल की उम्र में शाहदरा हेलो गीत यही चक्कर है कुछ तो प्रॉब्लम हो रही है इंटरनेट पर अपने इंटरव्यू में बोला था कि एक्चुअली उनसे पूछा गया था कि क्या आप आज भी दिलीप था आपकी नजर उतारती है तो सायरा बानो ने बोला कि हां भाई दिलीप साहब असल में बचपन से ही बहुत खूबसूरत हैं और उतनी ही हो लगते हैं तो और डेफिनेटली जब वह तो उनकी दुनिया में वह आज उनकी नजर का पिला दी उनकी तरह करती थी पावन की ने कहा कि 15 साल की उम्र वो उनके माथे पर लगा दी थी वह उनकी ताकत से निकाल दें और उनके लिए सब चीजें हैं वह टॉपिक इस दिलीप कुमार साहब की बात कर रही हो सुधीर और यहां पर हम उनकी जीवन के कुछ अनछुए पहलू आप तक पहुंचा रहे हैं कुछ इंटरेस्टिंग फैक्ट जो कि शायद आप लोगों को बताओ लेकिन हो सकता है आप लोगों को ना पता हो तो मुझे मैम बता रही हूं और वही चीजों का डिक्टेशन चल रहा है आप मुझे बताइए कि क्या आपको दिलीप साहब अच्छे लगते हो और आप भी कुछ डिस्कशन करना चाहते हैं उनके बारे में उनकी लाइफ के बारे में तो प्लीज हमें यहां पर कमेंट बॉक्स में कमेंट करिए हिना और मैंने जैसे कि बताया कि नहीं बताया था कि सायरा बानो जो कि वह दिलीप कुमार के प्यार में बिल्कुल पागल थी चली नहीं कहां की थी अब अभी मेरी आवाज आ रही है तुझे आ रही है हां तो अब आप बताओ कितनी रैली में हुआ क्या वैसे दिलीप साहब दो बार प्यार में नाकाम होते मतलब दो बार उनका दिल टूटा जी एक बार मधुबाला जी के संग था और एक बार और दूसरी एचडी मुझे नाम याद नहीं आ रहा है उनका एक शादी हुई थी वह तो उसमें मधुबाला कोहाट एनक्लेव तू शादी हुई थी उनकी मां किशोर कुमार के साथ में लेकिन जो दिलीप साहब की बात ही ना वह किस्सा कुछ अलग ही था जो मैंने कल नहीं सुनाया लेकिन वह किस समय आज आपको सुन आऊंगी तो दो बार उनका दिल टूटा था दो बार वह प्यार में फेल हो गए थे फिर सायरा बानो उनके अंदर इंटरेस्ट दिखा रही थी अब दोनों के बीच में गैप तो बहुत ज्यादा था टैक्स नहीं लगता कि 44 साल कि दिलीप साहब और 22 साल की ताराबानो प्यार अंधा होता है और प्यार को देखते हुए सायरा बानो ने हार नहीं मानी वह चाहती थी कि दिलीप साहब उनके इंप्रेस दो और शायद इसी वजह से उन्होंने उर्दू और प्रश्न भाषा भाषा बीपी इसके अलावा सायरा बानो ने दिलीप कुमार के लिए कई ऐसी चीजें जिससे वह ताराबानो को पसंद करने लगी थी दोनों ने किसी को बिना बताए शादी कर ले जाता है कि सायरा बानो की मम्मी ने दिलीप को अप्रोच किया था पर कितनी सच्चाई है यह मुझे नहीं पता लेकिन आज की डेट में भी इन दोनों का प्यार हमें आंखों में दिखता है कीर्ति कभी देखा है आपने दिलीप और सायरा बानो को एक साथ कितने क्यूट लगते हैं ना कि फिर से चली गई और जहां तक नहीं मधुबाला की बात तो ऐसा बोला जाता है कि मधुबाला जी के पापा नहीं मारे थे और यह बात बिल्कुल सही लेकिन कहीं ना कहीं ना इसमें दिलीप कहा कि जब भी शामिल थी जो उनका मधुबाला जी के साथ जो प्यार परवान नहीं चढ़ पाया जो जिसको 1 मंजिल नहीं मिल पाई उसका एक रीजन यह भी था कि दिलीप साहब की एक जिद थी अब दिलीप साहब की क्या देती चलिए मैं बता देती हूं एचडी में दिलीप साहब को जाना था मधुबाला जी के पापा से सॉरी बोलने के लिए जी की शादी के लिए तैयार नहीं थे लेकिन मधुबाला नहीं बोला कि आपको सिर्फ एक ही काम करना है आपको मेरे पापा घर पर मिलना है और और और उनको गले से लगाना तो वह मेरी शादी करवा दी नहीं था इसी वजह से फिर उनकी शादी नहीं हो पाई छोड़ कर अपने घर को छोड़कर सब कुछ छोड़ छाड़ कर उसे शादी कर ले नहीं तो नहीं चाहती थी कि उनके साथ शामिल हो बनाइए लेकिन दिलीप था आपने ऐसा नहीं किया लव स्टोरी बनती वह परवान चढ़ती तू इस तरीके से इनकी जो दिलीप कुमार और मधुबाला जी की थी वह बिल्कुल बीच में अधूरी रह गई लेकिन एक बात और है कि नहीं है तो प्रॉब्लम है आप लोगों को शादी जानकर बड़ी हैरानी होगी कि दिलीप कुमार बहुत अच्छा गाते हैं हां आपने कभी सुने दिलीप कुमार साहब का गाना मैंने सुना था एक इंटरव्यू में इसीलिए मैं बता रही हूं आपको शादी वह बेहतरीन jam-packed भी मजा लेते हैं मतलब देख बहुत ही मल्टीटैलेंट पर्सनालिटी हैं यह उनकी पत्नी सायरा की मानें तो दिलीप कुमार को अंताक्षरी में हराना बहुत ही मुश्किल है भाई दिलीप साहब बहुत तेज अंताक्षरी के लिए इतना ही नहीं बल्कि जैसे कैबरे डांस भी बेहतरीन नकल उतार सकते हैं अच्छा कौन सा उन्हें अधिक पद्मश्री अवार्ड मिला है अभी रिसेंटली मिलाएं अविनाश क्यों इसके लिए सब पाने के लिए उन्होंने जितने भी उपलब्धियां हासिल की है उसके रोने पद्मश्री से भी सम्मानित किया गया है कुछ समय पहले क्या बात है कीर्ति मानना पड़ेगा आप ही दिलीप कुमार की बहुत बड़ी फैन है इसीलिए शायद आप भी ट्रेजडी किंग के बारे में सारी इनफार्मेशन रखती हैं लेकिन आपको यह तो पता ही होगा ना कि दिलीप साहब और सायरा बानो की बच्चे नहीं हैं अब कोई बात नहीं लेकिन आज भी किसी से छुपा नहीं है कि शाहरुख खान ने दिलीप कुमार साहब की बहुत बड़ी फैन है और कहीं ना कहीं उनकी एक्टिंग में हमें दिलीप साहब की झलक भी देखने को मिलती लिए तो सायरा बानो जब भी शाहरुख खान से मिलती है तो वह हमेशा बोलती है कि आपके बाल बदक शाहरुख खान के बाल दिलीप कुमार के बाद जैसे ही हैं और वह उनके हाथ पर मतलब बालों पर हाथ दारू पीती हो क्या अगर हमारा बेटा होता है बच्चा होता तो भी शाहरुख खान की जैसा होता है और आपको जो आदेश किसने यह पसंद आ रहा है कमेंट करिए विरेचन वाइफ कर सकते हैं बॉलीवुड धमाल बुक ऐसी बहुत सारी और चीजें आपको टाइम टाइम पर पता चलती रहे इग्नॉउ सकते तो बहुत तरीके से इसमें आ रही है अब मैं क्या कहूं था मेरे पास लेकिन मैं भूल गई थी बता कैन यू हियर मी अरे भाई बहुत ही पसंद है मुझे इसमें पूरा टाइप नहीं आपको बहुत बढ़िया बहुत बढ़िया सही जा रहे हो सही जा रहे हो जो आपको बताया और आपके मनपसंद गाना बहुत पसंद है उड़ी जब जब जुल्फें तेरी उड़े जब जब दिल धड़के दिल धड़के जिंद मेरी ये तुरी हूं यह बात तो है मैनपुरी तो नहीं हूं लेकिन आई है कि दिलीप के गाने बहुत हैं और उनकी स्माइल में भी एक बात है यार कितना कितना प्यारा स्माइल करते हैं वह कभी सुना नहीं देखा नहीं आपने उनकी फाइल को देखा है ना मुझे भी बहुत बहुत बहुत अच्छी लगती है उनकी फाइल और लगी भी क्यों नहीं बहुत क्यूट एक्टर है यह मैं कभी-कभी सोचती हूं ना फ्रेंड की आता हुई होती जब दिलीप कुमार साहब थे और काश मुझे एक मौका मिला होता दिलीप कुमार साहब से मिलने का है पर में कोशिश करूं तो शायद मुझे अभी भी वह मौका मिल जाए लेकिन देखते हैं क्या होता है यानी होता मैं तो भगवान से बस यही दुआ करुंगी कि बस उनको और लंबी उम्र दे और वह और सालों तक हमारे साथ रहें और ऐसे ही आप अपनी मुस्कुराहट बिखेरते रहे हमें से 4 वर्षों तक के माया नगरी मुंबई में संघर्ष करने के बाद 1948 में फिल्म मेला की सफलता के बाद दिलीप कुमार बतौर अभिनेता फिल्म इंडस्ट्री में अपनी पहचान बनाने में सफल हो पाए थे यानी कि उनकी पहली मूवी थी वही मेला और बिल कुमार ने पोती अलग-अलग जो एक्टिंग करके कई किरदारों को पर्दे पर जीवित किया और यही वजह थी कि फिल्म आदमी में दिलीप कुमार के अभिनय को देखकर हास्य अभिनेता ओमप्रकाश ने कहा था यकीन नहीं होता पर इतनी बुलंदियों तक भी जा सकता है और सुमित और विदेशी दर्शक उनके अभिनय को देखकर कहते हैं हिंदुस्तान में दो ही चीजें देखने लायक है एक ताजमहल और दूसरा दिलीप कुमार अब आप सोच सकते हैं कि दिलीप कुमार की जो पापुलैरिटी है वह कहां तक है बताइए विदेशी तो यह बोलते हैं उन्हें सिर्फ दो ही चीज फेमस लगती है कि आज मैंने देख दिलीप कुमार और मधुबाला जी ने दिलीप कुमार को प्रपोज किया था ना तो प्रपोज दिलीप कुमार के सिनेमा करिए मैं उनकी जोड़ी अब मैं जो अभिनेत्री मधुबाला थी उनके साथ बहुत बहुत बहुत पसंद की गई थी फिल्म तराना के निर्माण के समय मधुबाला दिलीप कुमार से मोहब्बत करने लगी थी असली फिल्म करते-करते साथ में प्यार हो ही जाता है और मधुबाला जी को भी दिलीप कुमार से प्यार हो गया और उन्होंने अपनी ड्रेस डिजाइनर को गुलाब का फूल और एक हाथ देकर दिलीप कुमार के पास एक लेटर यानी कि एक मैसेज लेकर के साथ भेजा कि अगर वह भी उनसे प्यार करते हैं तो इसे अपने पास रख ली और दिलीप कुमार साहब ने फूल और लेटर को बहुत ही प्यार एक्सेप्ट कर लिया दा हाउस पूरी मदद दिल इस साल में किसी को प्रपोज किया लेकिन दिलीप साहब को बहुत सारी है कृष्ण ने प्रपोज किया उसने मधुबाला को हम जानते हैं उसमें भी हम सायरा बानो जी को जानते हैं जो आज की डेट में उनकी वाइफ है एनीवेज क्या मैं बताऊं यार आना इसे प्रदर्शित दिया चोपड़ा की फिल्म नया दौर में पहली दिलीप कुमार के साथ जो एक्ट्रेस की भूमिका के लिए मधुबाला को चुना गया था और मुंबई में ही इस फिल्म की शूटिंग की जानी थी लेकिन बाद में फिल्म के निर्माता को लगा कि इसकी शूटिंग भोपाल में भी करनी जरूरी है तो मधुबाला की पिता अत्ताउल्लाह खान ने बेटी को मुंबई से बाहर जाने की इजाजत देने से मना कर दिया था और उन्हें लगा कि मुंबई से बाहर जाने पर मधुबाला और दिलीप कुमार के बीच का प्यार और परवान चढ़ेगा और वह इसके लिए राजी नहीं थे आदमी बीआर चोपड़ा को मधुबाला की जगह वैजयंती माला को ले लेना पड़ा था और अत्ताउल्लाह खान बाद में इस मामले को अदालत में ले और इसके बाद उन्होंने मधुबाला को दिलीप कुमार के साथ काम करने से मना कर दिया और यहीं से दिलीप कुमार और मधुबाला की मधुबाला की पापा से मिलने के लिए उनको सॉरी बोलने और उनके गले से लगाने के लिए दिलीप कुमार साहब ने उन्हें दिलीप कुमार के सिनेमा की ऐतिहासिक पृष्ठभूमि पर के आशिक निर्देशन में सलीम अनारकली की प्रेम कथा पर बनी फिल्म आई थी जिसमें रानी शहजादे सलीम की भूमिका को रूपहले पर्दे पर जीवित किया और 1961 में गंगा जमुना के जरिए दिलीप कुमार ने फिल्म निर्माण के क्षेत्र में भी कदम रखा है यानी कि उन्होंने फिल्म बनाई थी आप इनकी सफलता के बाद दिलीप कुमार ने इसके बाद भी फिल्म बनाने का फैसला लिया लेकिन इनकम टैक्स बालों की बुरे बर्ताव की वजह से उन्होंने फिर कभी फिल्म निर्माण करने से तौबा कर दिया था यानी कि उन्होंने बोल दिया था कि मैं अब नहीं करूंगा गंगा जमुना दिलीप कुमार ने हिंदी और भोजपुरी का मिश्रण किया और उनका यह जो एक्सपेरिमेंट था बहुत ही पॉपुलर रहा बहुत दुगुने फिल्म में दिलीप कुमार के साथ उनके भाई नासिर खान ने भी अभिनय किया था मैं इंडियन सेक्सी दिखने दिलीप कुमार ने फिल्म अभिनेत्री सायरा बानो के साथ निकाह कर लिया जो कि मैं ऑलरेडी आपको बता चुके 1967 में प्रदर्शित फिल्म राम और श्याम दिलीप कुमार की सुपरहिट फिल्म साबित हुई दो जुड़वा भाइयों की कहानी पर आधारित फिल्म में दब्बू और बिल्कुल दे सकते हैं इधर के रूप में दोहरी भूमिका दिलीप कुमार ने बेहद सधे हुए अंदाज में निभाकर बस सभी का दिल जीत और बाद में फिल्म राम और श्याम से प्रेरणा लेकर फिल्मकारों ने कई दोहरी भूमिका वाली फिल्मों का निर्माण किया बीपी अवार्ड की वजह से भी जाना जाता है हां यह बात बिल्कुल ठीक कही कीर्ति कोई बात नहीं आप हमारे साथ ऐसी नहीं है तो कम मैसेजेस के तू है पैसे जिसमें से उन्होंने 10 फिल्म फेयर अवार्ड जीते हां यह कल में दिक्कत ऑलरेडी कर चुकी हूं कि उन्होंने बहुत सारे फिल्म फेयर अवार्ड जीते हैं और उनको ना टाइम जिसके लिए नॉमिनेट भी किया गया किसी पता है आपको परेशान और सम्मानित किया गया था सॉरी व्हाट जीते हैं तो गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड वाले तो उसको बुलाएंगे ना ऐसे ही बैराग जो बिल्कुल भी मतलब नहीं हुई थी और उसके बाद 5 सालों तक फिल्म इंडस्ट्री को छोड़ दिया था बताइए एक फिल्म इतनी भी दोनों ने 5 सालों तक फिल्म इंडस्ट्री में कदम नहीं रखा अभी नाइट में फिल्म निर्माता निर्देशक मनोज कुमार के कहने पर दिलीप कुमार साहब क्रांति से उन्होंने वापसी की एक और उस टाइम पर एक कैरेक्टर एक्टर के रूप में वह अपने सिनेमाई करियर की दूसरी पारी शुरू करने के लिए वापस आए फिल्म इंडस्ट्री में फिल्म दमदार चरित्र एक दिलीप कुमार ने एक बार फिर से सभी का दिल जीत लिया और फिल्म को सुपरहिट बना दिया अमिताभ बच्चन दिलीप कुमार के सामने बिल्कुल फीके पड़ गए थे अगर हम शक्ति फिल्म की बात करें जो कि 1982 में आई थी और यह इंडस्ट्री की बेहतरीन क्लासिक फिल्मों में शुमार की जाती है और इस फिल्म में दिलीप कुमार अमिताभ बच्चन ने पहली बार एक साथ काम करके दर्शकों को उनका दिल जीता दर्शकों को रोमांचित किया और अमिताभ बच्चन के सामने किसी भी कलाकार को सहज ढंग से काम करने में दिक्कत हो सकती थी लेकिन जनशक्ति में दिलीप कुमार के साथ काम करने में अमिताभ बच्चन को भी कई दिक्कतों का सामना करना पड़ा था और इस फिल्म के एक दृश्य को याद करते हुए अमिताभ बच्चन ने एक बार कहा था कि फिल्म के क्लाइमेक्स में जब दिलीप कुमार उनका पीछा करते रहते हैं तो उन्हें पीछे मुड़कर देखना होता है जब वह ऐसा करते हैं तो वह दिलीप कुमार की आंखों में देख नहीं पाते हो और इस वजह से उनकी उसी सीन के कई सारे बीते हुए और कई सारे रितिक दिलीप जी लास्ट मूवी दिलीप जी की लास्ट मूवी 9193 जिसका नाम सौदागर था वाह क्या बात है जिसमें आधा इमली का बूटा बेरी का पेड़ दिल कुमार चला कोई नहीं कोई नहीं कोई नहीं वैसे आप दिलीप कुमार साहब के बारे में बहुत सारी बातें हमने की और आपने भी बहुत अच्छा साथ दिया मेरा पैसे जितने भी लोग सुने हैं अगर अच्छा लगा तो कम से कम यार लाइक तो कर ही सकते हो कमेंट तो बहुत ही कमाई देखी थी तो फिर मुझे अपने कमेंट क्योंकि दिलीप कुमार आपकी बारे में बातचीत करती रही लेकिन मैं आप लोग लाइक भी कर सकते हो और सब्सक्राइब भी कर सकती हो मेरा चैनल और कॉलेज की ओपन टॉप पर मेरे साथ एक बार फिर से जुड़ने के लिए चल रही हूं जा रही हूं और बॉलीवुड धमाल में बहुत सारी बॉलीवुड की ट्रेनिंग चल रही है ट्रेन में वह भी लेकर आऊंगी और साथ ही साथ कुछ इंटरेस्टिंग फैक्ट भी लेकर आती रहूंगी तो मेरे साथ जुड़ी रही है बिल्कुल भी अभी के लिए बाय बाय टेक केयर आफ फन